दर्दे - जहान

कहाँ, किस तरह, कैसा क्यों हूँ ? सोच रहा हूँ ऐसा क्यों हूँ ? काँटों के इस बियाबान में , मैं फूलों के जैसा क्यों हूँ ?

17 Posts

231 comments

Jayprakash Mishra


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

जवाब चाहता हूँ

Posted On: 19 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

22 Comments

सच का सामना या रिश्तों को मुखाग्नि

Posted On: 26 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

24 Comments

सरगना……….(लघुकथा)

Posted On: 16 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

10 Comments

जो नहीं लिखा गया

Posted On: 13 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

20 Comments

जागरण ने जगाये हैं हमारे सोये हुए जज्बात…..”feedback”

Posted On: 8 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

24 Comments

चर्चा………अन्ना को समर्पित कविता

Posted On: 3 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

में

8 Comments

स्विस बैंकों में जमा, मेरे हिस्से की ज़मीन

Posted On: 31 Mar, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

6 Comments

अफसोस , बाग़ में है परिंदा नहीं कोई………….. (ग़ज़ल)

Posted On: 15 Mar, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.40 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

20 Comments

हारा कोई जीता कोई जनता को मिला क्या …(ग़ज़ल)

Posted On: 2 Mar, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 4.78 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

28 Comments

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: अनिल कुमार ‘अलीन’ अनिल कुमार ‘अलीन’

और मैं इसका समर्थन करता हूँ......यदि अपनी हवश के नाजायज सम्बन्ध बनाना सही है और अपने स्वार्थ के लिए भाई और बाप को मारना, गली देना सही है, अपने स्वार्थ के लिए किसी की बेटी और बहन को बेटी-बहन समझाना सही है तो यह भी सही है......कम से कम हमारे पीछे की पीढ़ियों को हम शरीफों की सराफत तो पता चल रहा है.......वैसे भी धतुरा लगाने पर गुलाब नहीं मिलाने वाला.......हाँ.....हां....हाँ.....बेहतर होगा कि कल्पनाओं कि दुनिया से निकलकर हम सच कि दुनिया का सामना करें और अपने अन्दर और आस-पास की बुराइयों पर ध्यान केन्द्रित करते हुए, एक सार्थक प्रयास करें......और किसी को बुरा लगा हो तो मैं फिर बता देना चाहता हूँ कि मैं माफ़ी नहीं मांगनेवाला......

के द्वारा: अनिल कुमार ‘अलीन’ अनिल कुमार ‘अलीन’

के द्वारा: ajaydubeydeoria ajaydubeydeoria

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

वैसे तो मैं मूलतः कवि नहीं हूँ, किन्तु जागरण जंक्शन के कुछ कवियों से प्रेरित हो कर कविता लिखने का प्रथम प्रयास कर रहा हूँ, कविता अगर पसंद आए तो खुले दिल से मेरी सराहना कीजिएगा ताकि मैं और भी ऐसी खूबसूरत कविताएँ लिखने के लिए प्रेरित हो सकूँ..........आपका Wise Man ! ऊपर आम का छतनार, नीचे हरे घास हज़ार, और वन-तुलसी की लताएँ करने गलबहियाँ तैयार, लेके चाकू और कटार, जब हो ओलो का प्रहार, बिमला मौसी का परिवार, चुने टोकरी मे अमियाँ फिर डाले उनका आचार... यह खेल चले दो तीन महीने लगातार.... फिर आए जाड़े का मौसम, पड़े शीत की मार, छोटू को हो जाए बुखार..... डॉक्टर की दवाई फिर करे छोटू का उद्धार..... फिर आए गर्मी की ललकार, सर्वत्र मचे हाहाकार, और जब लाइट न हो और हो पंखे की दरकार, मचाए सब चीख-पुकार, चले प्रक्रिया यह बारंबार, फिर आए बसंती बहार, इस मौसम के बारे में मैं कहूँगा अगली बार...... तब तक के लिए मेरा सादर नमस्कार.....

के द्वारा: follyofawiseman follyofawiseman

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Rakesh Rakesh

के द्वारा: Rakesh Rakesh

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Rakesh Rakesh

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra

के द्वारा: Jayprakash Mishra Jayprakash Mishra




latest from jagran